‘One Nation, One Election’ यह क्या है और यह कैसे काम कर सकता है

70
one-nation-one-election

‘One Nation, One Election’ का मतलब है कि सभी भारतीय लोकसभा और विधानसभा चुनावों में मतदान करेंगे – केंद्रीय और राज्य प्रतिनिधियों को चुनने के लिए – एक ही वर्ष में, यदि एक ही समय पर नहीं तो।

नई दिल्ली: Former President Ram Nath Kovind के नेतृत्व वाली एक समिति ने सरकार के ‘One Nation, One Election’ अभियान पर एक रिपोर्ट सौंपी – जिसमें लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने का प्रस्ताव है।

september में गठित पैनल ने तब से “अन्य देशों की सर्वोत्तम प्रथाओं” का अध्ययन किया है, 39 राजनीतिक दलों, अर्थशास्त्रियों और भारत के चुनाव आयोग से परामर्श किया है। इसने आज कहा कि वह इस विचार का समर्थन करता है, लेकिन एक कानूनी रूप से टिकाऊ तंत्र की मांग करता है जो मौजूदा चुनावी चक्रों को तोड़ और फिर से संरेखित कर सके।

President Draupadi Murmu को सौंपी गई रिपोर्ट में कहा गया है, ”समिति की सर्वसम्मत राय है कि एक साथ चुनाव होने चाहिए।” इसमें कहा गया है कि Lok Sabha and Assembly चुनाव 100 दिन बाद स्थानीय निकाय चुनावों (भी एक साथ) के साथ कराए जा सकते हैं।

‘One Nation, One Election’ प्रस्ताव 2019 में BJP के घोषणापत्र का हिस्सा था, लेकिन विपक्ष ने इसकी भारी आलोचना की, जिन्होंने संवैधानिक मुद्दों को लाल झंडी दिखा दी। ‘One Nation, One Election’ क्या है?

सीधे शब्दों में कहें तो इसका मतलब है कि सभी भारतीय लोकसभा और विधानसभा चुनावों में – केंद्रीय और राज्य प्रतिनिधियों को चुनने के लिए – एक ही वर्ष में, यदि एक ही समय पर नहीं तो, मतदान करेंगे।

यह भी पढ़ें :–

घर में गिरने से घायल हुईं Mamata Banerjee, माथे पर लगे टांके

T20 World Cup 2024: Virat Kohli को T20 World Cup 2024 में नहीं मिलेगी जगह! सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

CAA Rules: CAA कानून लागू होने के बाद CM ममता बनर्जी ने दी चेतावनी, कहा- ‘जान दे दूंगी, बंगाल में नहीं बनने दूंगी ड‍िटेंशन सेंटर’

Bold Web Series: OTT Platform पर देखें Bold Web Series, आप को कमरे की कुंडी लगाना पड़ेगा

Manohar Lal Khattar ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया, हरियाणा की सियासत में मचा हड़कंप, लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here