Madhubani Teacher: बिंदेश्वर यादव M.S मध्य विद्यालय गदियानी मधुबनी से हुए सेवानिवृत्ति, शिक्षक को दी गई विदाई

754
Bindeshwar-Yadav

Madhubani Teacher: मधुबनी जिला के M.S मध्य विद्यालय गदियानी मधुबनी के प्रधानाध्यापक बिंदेश्वर यादव बुधवार (31 जनवरी 2024) को सेवानिवृत हुआ। इस अवसर पर विद्यालय परिवार की तरफ से विदाई समारोह का आयोजन किया गया। बिंदेश्वर यादव 1994 बैच के शिक्षक थे। मौके पर स्कूल के सभी शिक्षक-शिक्षिका, दोस्त, करीबी उपस्थित थे।

बिंदेश्वर यादव की संक्षिप्त जीवनी
मैं बिंदेश्वर यादव (Bindeshwar Yadav) आज दिनांक 31 जनवरी 2024 को मैं मधुबनी जिले के एक सरकारी विद्यालय में शिक्षक के पद से सेवानिवृत्त हुआ। 1994 से, मैंने मधुबनी के विभिन्न सरकारी स्कूलों में एक शिक्षक के रूप में छात्रों का मार्गदर्शन और शिक्षा करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

जीवन में शिक्षा का बहुत महत्व है; इसके बिना मनुष्य पशु के समान है। हमारा गाँव एक बेहद पिछड़ा इलाका था जहाँ न तो कोई शिक्षा लेता था और न ही शिक्षा के महत्व पर चर्चा करता था। जहां से मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद मैंने उच्च शिक्षा के लिए पटना विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। मैंने आगे की पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी से की। आईएएस अधिकारी बनने की इच्छा से प्रेरित होकर, मैंने तैयारी के लिए लगभग 10 से 15 साल समर्पित कर दिए। आईएएस अधिकारी बनने की इच्छा से प्रेरित होकर, मैंने कई सरकारी नौकरियाँ छोड़ दीं। हालाँकि मुझे कई बार यूपीएससी मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार का सामना करना पड़ा, लेकिन दुर्भाग्य से, मैं सफल नहीं हुआ।

1994 में, लालू प्रसाद यादव के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यकाल के दौरान, मुझे बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) के माध्यम से सहायक शिक्षक के रूप में चुना गया था। तब से, मैंने विभिन्न सरकारी स्कूलों में शिक्षक के रूप में कार्य किया है।
मैं आप सभी से अपील करता हूं कि कृपया अपने बच्चों को शिक्षित और सशक्त बनाएं। जीवन में शिक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है; आज मैं आपको शिक्षा का महत्व बताता हूं।
शिक्षा जीवन की आधारशिला है।
समाज के विकास में शिक्षा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
शिक्षा के माध्यम से व्यक्ति अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की क्षमता प्राप्त करता है।
एक शिक्षित व्यक्ति सकारात्मक सामाजिक परिवर्तनों में निरंतर भागीदार बनता है।
शिक्षा समझ और जागरूकता को बढ़ावा देती है।
शिक्षा व्यक्तियों को स्वतंत्रता और स्वतंत्रता का अधिकार देती है।
एक शिक्षित व्यक्ति समस्याओं का समाधान करने में सक्षम होता है।
शिक्षा समृद्धि और सामाजिक समानता को बढ़ावा देती है।
यह व्यक्तियों को अधिक विश्लेषणात्मक बनाता है और नए दृष्टिकोण पेश करता है।
शिक्षा अच्छे नागरिकों का निर्माण करती है जो समाज में सकारात्मक योगदान देते हैं।
यह व्यक्तियों के बेहतर स्वास्थ्य में योगदान देता है।
शिक्षा व्यक्तियों के सर्वांगीण विकास में सहायता करती है।
यह आत्म-अभिव्यक्ति और किसी की क्षमताओं के बारे में जागरूकता की सुविधा प्रदान करता है।
शिक्षा अधिकारों एवं कर्तव्यों का ज्ञान कराती है।
शिक्षा समाज की सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक समृद्धि में योगदान देती है।


शिक्षा मानव जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है।
यह व्यक्तियों को अधिक समझदार बनाता है और उनकी सोचने की क्षमता को बढ़ाता है।
शिक्षा सामाजिक समानता को बढ़ावा देती है और विभिन्न वर्गों के बीच भेदभाव को कम करती है।
एक शिक्षित व्यक्ति समाज में सकारात्मक परिवर्तन का स्रोत बनता है।
शिक्षा व्यक्तियों के लिए रोजगार के अधिक अवसर खोलती है।
एक शिक्षित समाज अधिक विकसित होता है और अधिक प्रगति करता है।
शिक्षा व्यक्तियों को उनके लक्ष्य प्राप्त करने में सहायता करती है।
यह वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति में योगदान देता है।
शिक्षा सामाजिक और आर्थिक मुद्दों का समाधान प्रदान करती है।
एक शिक्षित व्यक्ति अधिक सशक्त और आत्मनिर्भर होता है।
शिक्षा भ्रष्टाचार और अन्य नकारात्मक दृष्टिकोणों को मिटाने में मदद करती है।
यह समाज में जागरूकता फैलाता है, यह सुनिश्चित करता है कि लोगों को उनके अधिकारों के बारे में जानकारी दी जाए।
शिक्षा विभिन्न कलाओं और साहित्य में रुचि बढ़ाती है।
यह व्यक्तियों को स्वस्थ और सुरक्षित जीवन जीने में सक्षम बनाता है।
एक शिक्षित समाज जीवन के हर पहलू में अपने सदस्यों के लिए सफलता की संभावना बढ़ाता है।

यह भी पढ़ें:

Mahatma Gandhi Quotes: महात्मा गांधी जी की पुण्यतिथि आज, पढ़िए उनके अनमोल विचार और वचन

Google: Google की इन तीन बातों पर कर लें यकीन, YouTube से कमाएंगे पैसा

Pariksha Pe Charcha 2024: PM Modi ने छात्र-छात्राओं को दिया सफलता के मंत्र, हर चुनौती का डटकर कर सकेंगे सामना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here