Tamil Nadu में बिहारी मजदूर मामले में सनसनीखेज खुलासा, Patna में शूट हुआ था फर्जी वीडियो; कई Youtuber इस साजिश में थे शामिल

116
adg-bihar

पटना (Patna): तमिलनाडु (Tamil Nadu) में बिहारी (Bihari) मजदूरों (laborers) समेत हिन्दी भाषियों (Hindi speaking) के साथ मारपीट के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। फर्जी मामले (fake cases) को भड़काने और इसे हकीकत का रंग देने के लिए फर्जी वीडियो (fake video) बनाया गया था। इस वीडियो (Video) को शूट (shoot) करने के लिए पटना (Patna) के जक्कनपुर मोहल्ले (Jakkanpur Mohalla) के बंगाली टोला (Bengali Tola) में एक किराए (rent) का मकान (House) लिया गया था। ये वीडियो 6 मार्च को शूट किया गया था (This video was shot on 6th March)।

इस मामले को लेकर आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) (Economic Offenses Unit (EOU)) ने एक दूसरी एफआईआर संख्या- 4/23 दर्ज (FIR number- 4/23 registered) की गई है। इसमें 3 यू-ट्यूब चैनल (3 Youtube channel) के 3 मालिक समेत 4 को नामजद किया गया है। यह जानकारी एडीजी (मुख्यालय) जितेंद्र सिंह गंगवार (ADG (HQ) Jitendra Singh Gangwar) ने पुलिस मुख्यालय (police headquarters) में शुक्रवार (Friday) को आयोजित प्रेस वार्ता (Press Conference) में दी। एडीजी (ADG) ने बताया कि तमिलनाडु (Tamil Nadu) में हिंसा की झूठी खबरें फैलाने के आरोप में ईओयू (EOU) में एक एफआईआर (संख्या- 3/23) (FIR (No. 3/23)) पहले ही दर्ज की गई है।

इस मामले में एडीजी मुख्यालय जितेंद्र सिंह गंगवार (ADG Headquarters Jitendra Singh Gangwar) ने बताया कि फेमस यूट्यूब (famous youtube) मनीष कश्यप (Manish Kashyap) की इस मामले में बड़ी भूमिका उजागर हुई है। पूर्व के F.I.R. में मनीष कश्यप (Manish Kashyap) और युवराज सिंह (Yuvraj Singh) को नामजद किया गया है। दोनों ई ओ यू (EOU) के समक्ष उपस्थित नहीं हुए हैं। उन्हें नोटिस भेजा गया था। अब उनकी गिरफ्तारी (arrest) की कार्रवाई शुरू की जा रही है।

उन्होंने कहा कि मनीष कश्यप (Manish Kashyap) के विरुद्ध पहले से भी इस प्रकार के मामले दर्ज हैं। उनके खिलाफ कुल 7 मामले पूर्व से दर्ज हैं। मनीष कश्यप (Manish Kashyap) पर पुलवामा (Pulwama) की घटना के बाद पटना (Patna) के ल्हासा मार्केट (Lhasa Market) में कश्मीरी (Kashmiri) दुकानदारों (shoppers) की पिटाई का भी आरोप है। उसमें उनकी गिरफ्तारी (arrest) हुई थी। वह पहले भी कई बार गलत और भड़काऊ पोस्ट कर चुके हैं।

एडीजी (ADG) ने बताया कि इस मामले की जांच के लिए 10 सदस्य टीम बनाई गई है। अभी तक कुल 30 वीडियो चिन्हित किए गए हैं। उनकी जांच चल रही है। तमिलनाडु (Tamil Nadu) कांड में अभी तक 26 ट्विटर और फेसबुक अकाउंट (26 Twitter and Facebook accounts) को बिहार पुलिस (Bihar Police) द्वारा चिन्हित (marked) किया गया है। इसके अलावा 42 सोशल मीडिया अकाउंट्स (42 social media accounts) के संचालकों (director) को नोटिस (notice) दिया गया है कि उन्होंने जो पोस्ट (Post) डाला है उसके साक्ष्य प्रस्तुत करें।

एडीजी (ADG) ने बताया कि तमिलनाडु (Tamil Nadu) केस (Case) से संबंधित एक और गलत वीडियो (wrong video) सामने आया है। 8 मार्च को यूट्यूब चैनल (youtube channel on 8 march) के संचालक (director) मनीष कश्यप (Manish Kashyap) द्वारा बीएनआर न्यूज़ यूट्यूब चैनल (BNR News Youtube Channel) पर अपलोड वीडियो (upload video) को ट्वीट (Tweet) किया गया। ट्वीट के साथ एक वीडियो (Video) प्रथम दृष्टया संदिग्ध लगा।उसकी जांच की गई। अनुसंधान के क्रम में वीडियो अपलोड करने वाले राकेश रंजन कुमार (Rakesh Ranjan Kumar) को चिन्हित किया गया। बिहार पुलिस (Bihar Police) ने उसे गोपालगंज (Gopalganj) से हिरासत (custody) में लिया तो पूछताछ में उसने बड़ा खुलासा किया।

एडीजी (ADG) के मुताबिक यह वीडियो 6 मार्च (video 6 march) को पटना (Patna) के जक्कनपुर (Jakkanpur) स्थित एक मकान में शूट किया गया। राकेश रंजन कुमार (Rakesh Ranjan Kumar) ने बताया कि दो लोगों के सहयोग से बंगाली कॉलोनी (Bangali colony) स्थित किराए के मकान में यह वीडियो (video) बनाया किया गया था। वीडियो (video) बनाने का मकसद यह था कि पुलिस (Police) के अनुसंधान को ग़लत दिशा दी जा सके। इन सारी बातों का उद्भेदन हो गया है और राकेश रंजन कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है।

वीडियो (Video) बनाने के मामले में इओयू पटना के द्वारा एक अलग से फायर 4/2023 दर्ज किया गया है। इसमें मनीष कश्यप (Manish Kashyap), राकेश रंजन (Rakesh Ranjan) के अलावे दो अन्य को अभियुक्त बनाया गया है।

एडीजी (ADG) ने बताया इस मामले में तमिलनाडु पुलिस द्वारा फर्जी वीडियो (fake video by tamil nadu police) बनाने और वायरल (viral) करने के आरोप में 13 कांड दर्ज किए गए हैं। उनकी छानबीन की जा रही है। तमिलनाडु पुलिस (Tamil Nadu Police) की टीम बिहार (Team Bihar) आकर अनुसंधान कर रही है। तमिलनाडु पुलिस यूपी (tamilnadu police up), एमपी (MP), दिल्ली (Delhi) समेत अन्य राज्यों (states) में जाकर भी छानबीन करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here