Pakistan की बढ़ती परशानी, पाकिस्तान जाने वाला रावी नदी का पानी को भारत ने बांध बनाकर रोका- जानें पूरा मामला

46
india pakistan

सिंधु जल संधि के तहत रावी, सतलुज और ब्यास के पानी पर भारत का पूरा अधिकार है, जबकि सिंधु, झेलम और चिनाब के पानी पर पाकिस्तान का अधिकार

श्रीनगर: भारत (india) ने आखिरकार रावी नदी के पानी को रोक दिया है जो की पाकिस्तान (pakistan) से हिंदुस्‍तान ने 45 साल से पूरा होने का इंतजार कर रहे बांध का निर्माण कर रावी नदी से पाकिस्तान की ओर जाने वाले पानी को रोका है. विश्व बैंक की देखरेख में 1960 में हुई ‘सिंधु जल संधि’ के तहत रावी के पानी पर भारत का विशेष अधिकार है पंजाब के पठानकोट जिले में स्थित शाहपुर कंडी बैराज जम्मू-कश्मीर और पंजाब के बीच विवाद के कारण रुका हुआ था लेकिन इसके कारण बीते कई वर्षों से भारत के पानी का एक बड़ा हिस्सा पाकिस्तान में जा रहा था

सिंधु जल संधि के तहत रावी, सतलुज और ब्यास के पानी पर भारत का पूरा अधिकार है, जबकि सिंधु, झेलम और चिनाब के पानी पर पाकिस्तान का अधिकार है 1979 में पंजाब और जम्मू-कश्मीर सरकारों ने पाकिस्तान का पानी रोकने के लिए रंजीत सागर बांध और डाउनस्ट्रीम शाहपुर कंडी बैराज बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए समझौते पर जम्मू-कश्मीर के तत्कालीन मुख्यमंत्री शेख मोहम्मद अब्दुल्ला और उनके पंजाब समकक्ष प्रकाश सिंह बादल ने हस्ताक्षर किए थे

साल 1982 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इस परियोजना की नींव रखी, जिसके 1998 तक पूरा होने की उम्मीद थी जबकि रणजीत सागर बांध का निर्माण 2001 में पूरा हो गया था, शाहपुर कंडी बैराज नहीं बन सका और रावी नदी का पानी पाकिस्तान में बहता रहा 2008 में शाहपुर कंडी परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया गया था,लेकिन निर्माण कार्य 2013 में शुरू हुआ विडंबना यह है कि 2014 में पंजाब और जम्मू-कश्मीर के बीच विवादों के कारण परियोजना फिर से रुक गई थी.

आख़िरकार, 2018 में केंद्र ने मध्यस्थता की और दोनों राज्यों के बीच समझौता कराया. इसके बाद बांध का काम शुरू हुआ, आखिरकार वो खत्म हो गया है. जो पानी पाकिस्तान जा रहा था, उसका उपयोग अब जम्मू-कश्मीर के दो प्रमुख जिलों कठुआ और सांबा को सिंचित करने के लिए किया जाएगा 1150 क्यूसेक पानी से अब केंद्र शासित प्रदेश की 32,000 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई होगी बांध से पैदा होने वाली पनबिजली का 20 फीसदी हिस्सा जम्मू-कश्मीर को भी मिल सकेगा

55.5 मीटर ऊंचा शाहपुरकंडी बांध एक बहुउद्देश्यीय नदी घाटी परियोजना का हिस्सा है, जिसमें 206 मेगावाट की कुल स्थापित क्षमता वाली दो जल विद्युत परियोजनाएं शामिल हैं यह रंजीत सागर बांध परियोजना से 11 किमी नीचे रावी नदी पर बनाया गया है बांध के पानी से जम्मू-कश्मीर के अलावा पंजाब और राजस्थान को भी मदद मिलेगी

ये भी पढ़ें :

Cricket : यशस्वी जायसवाल ने वो कारनामा कर दिखाया जो टेस्ट में कोहली और तेंदुलकर भी नहीं कर सके

Haryana News:- नफे सिंह राठी मर्डर केस में पूर्व विधायक समेत 7 लोगों पर FIR, सामने आया हत्यारों का सच

PM Modi in Dwarka: PM मोदी ने भगवान कृष्ण की नगरी को देखने के लिए समुद्र में लगाई डुबकी, आराधना कर बोले- ये दिव्य अनुभव; PHOTOS

Google Pay: Google ने लिया बड़ा फैसला, America में बंद होगा Google Pay App का पुराना वर्जन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here