National Farmers Day, Kisan Diwas: कृषि प्रधान देश में क्यों मनाया जाता है Kisan Diwas, जाने इसका महत्व

0
192
Kisan-Diwas

National Farmers Day, Kisan Diwas: इंडिया कृषि प्रधान देश है। आज इंडिया में राष्ट्रीय किसान दिवस (Kisan Diwas) मनाया जा रहा है। हमारे देश में 23 दिसंबर का दिन किसानों को समर्पित किया गया है। इंडिया में किसान को अन्नदाता और धरती पुत्र कहा जाता है। दरअसल आज किसानों के मसीहा पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह (Former Prime Minister Chaudhary Charan Singh) की जयंती भी होती है इसलिए यह दिन इंडिया (India) में किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है। चौधरी चरण सिंह ने अपने छोटे से कार्यकाल में उन्होंने किसानों के हित के लिए कई कार्यक्रम चलाए। उन्होंने किसानों को सशक्त बनाने के लिए कई कानून और नीतियां बनाई थी। चौधरी चरण सिंह का जन्म 23 दिसंबर 1902 को हुआ था। साल 2001 में चौधरी चरण सिंह के सम्मान में हर साल 23 दिसंबर को किसान दिवस (Farmers Day) मनाने का फैसला किया था। इंडिया को किसानों का देश कहा जाता है और आजादी के बाद देश के विकास में उनकी बेहद महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

आज का दिन देश के अन्नदाता किसान वर्ग के प्रति आभार प्रकट करने का दिन है। इस दिन को किसान दिवस (Farmers Day) के तौर पर मनाने का मकसद किसानों के उत्थान, आर्थिक विकास में उनके अहम योगदान, उनकी समस्याओं जैसे मुद्दों पर सबका ध्यान खींचना है। यह दिन लोगों को किसानों से जुड़े विभिन्न मुद्दों के बारे में शिक्षित करने का काम करता है। इस दिन कृषि क्षेत्र व किसानों के विकास जैसे विषयों पर विभिन्न कार्यक्रमों वे सेमिनार का आयोजन होता है। देश भर के किसानों को प्रोत्साहित किया जाता है।

देश के 5वें PM चौधरी चरण सिंह जुलाई 1979 से जनवरी 1980 तक प्रधानमंत्री रहे। वह अपने जीवन में हमेशा किसानों के कल्याण के लिए काम करते रहे। PM रहते किसानों के हित में उन्होंने कई अहम कदम उठाए। ग्रामीण और कृषि विकास के समर्थक होने के नाते उन्होंने इंडिया में योजना के केंद्र में कृषि को रखने के लिये निरंतर प्रयास किए।

उन्होंने साहूकारों से किसानों को राहत देने के लिये ऋण मोचन विधेयक 1939 को बनाने में अहम रोल अदा किया। उन्होंने 1949 विधानसभा में कृषि उत्पादन बाजार विधेयक पेश किया। वह 1952 में कृषि मंत्री बने। 1953 में जमींदारी प्रथा को समाप्त कर दिया।उन्होंने भूमि जोत अधिनियम, 1960 को लाने में अहम भूमिका निभाई, जिसका मकसद पूरे राज्य में भूमि जोत की सीमा को कम करना था ताकि इसे एक समान बनाया जा सके। 23 दिसंबर 1978 को किसान ट्रस्ट की स्थापना की।

यह भी पढ़ें :

Motivational Speaker Vivek Bindra: विवेक बिंद्रा की बढ़ी मुश्किलें, पत्नी को पीटा, कान का पर्दा फटा; Noida में FIR दर्ज

Oppo 5g Mobile: स्लिम बॉडी डिजाइन के साथ India में लॉन्च हुआ Oppo A59 5G, जानिए कीमत और फीचर्स

BPSC TRE Result 2.0, Bihar Teacher Result: BPSC शिक्षक बहाली का रिजल्ट घोषित, यहां से Download कर सकते हैं Result

Happy Geeta Jayanti 2023 Message: गीता जयंती आज, अपनों को भेजें गीता जयंती की शुभकामनाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here