Tulsi Pujan Diwas 2023: आज है तुलसी पूजन दिवस, जानें पूजा विधि, आरती और महत्व

0
218
tulsi-pujan-diwas-2023

Tulsi Diwas 2023: आज 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस है। हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बहुत ही पूजनीय और पवित्र माना गया है। हिंदू धर्म में तुलसी का पत्ता हर काम में आता है। तुलसी को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। ऐसा मानना है की जिस घर में तुलसी का पौधा होता है, उस घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है। ऐसे घर में रहने वाले लोगों के जीवन में कभी भी कोई परेशानी नहीं आती है। तुलसी के पौधे में नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने की क्षमता होती है। नियमित रूप से तुलसी के पैधे की पूजा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। अगर आप भी सुख-शांति की कामना करते हैं, तो प्रतिदिन तुलसी की पूजी अवश्य करें। जानते हैं तुलसी पूजा का महत्व और पूजन विधि…

तुलसी पूजा विधि
रोज सुबह उठकर स्नान करके तुलसी के पौधे को लोटे से जल चढ़ाएं और प्रणाम करें।
जल चढ़ने से पूर्व अक्षत, चंदन, रोली और अगर रोली न हो तो हल्दी को तुलसी के पौधे पर अर्पित करें।
आप को जितना हो सके 7, 11, 21 या 111 परिक्रमा कर सकते हैं और उसके बाद मां तुलसी का ध्यान कीजिए।
रोज शाम को तुलसी के पौधे के पास घी का दीपक जलाएं।
ऐसा करने से घर में कलह-कलेश का वातावरण नहीं बनता और सुख समृद्धि आती है।

तुलसी पूजा का महत्व
हिंदू धर्म में तुलसी अत्यंत पवित्र पौधों हैं। नियमित रूप से तुलसी पूजन करने और रोज तुलसी के दर्शन करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां त्रिदेव यानी ब्रह्मा, विष्णु और महेश विराजते हैं। मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए तुलसी की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

Tulsi Pujan Diwas 2023: आज है तुलसी पूजन दिवस, जानें पूजा विधि, आरती और महत्व

तुलसी माता का स्तुति मंत्र
देवी त्वं निर्मिता पूर्वमर्चितासि मुनीश्वरैः,
नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।।

मां तुलसी का पूजन मंत्र
तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी।
धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।।
लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।
तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।

तुलसी माता का ध्यान मंत्र
तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी।
धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।।
लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।
तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।

तुलसी माता की आरती
जय जय तुलसी माता
सब जग की सुख दाता, वर दाता
जय जय तुलसी माता ।।

सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर
रुज से रक्षा करके भव त्राता
जय जय तुलसी माता।।

बटु पुत्री हे श्यामा, सुर बल्ली हे ग्राम्या
विष्णु प्रिये जो तुमको सेवे, सो नर तर जाता
जय जय तुलसी माता ।।

हरि के शीश विराजत, त्रिभुवन से हो वन्दित
पतित जनो की तारिणी विख्याता
जय जय तुलसी माता ।।

लेकर जन्म विजन में, आई दिव्य भवन में
मानवलोक तुम्ही से सुख संपति पाता
जय जय तुलसी माता ।।

हरि को तुम अति प्यारी, श्यामवरण तुम्हारी
प्रेम अजब हैं उनका तुमसे कैसा नाता
जय जय तुलसी माता ।।

यह भी पढ़ें :

Atal Bihari Vajpayee Birthday: पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा-‘मैं अविवाहित हूं, कुंवारा नहीं…’

Bihar News: Prashant Kishor ने कहा की बिहार के मुसलमान RJD को ही क्यों वोट देते हैं ?, PK ने अपने अंदाज में लोगों को समझाया

National Farmers Day 2023: आज है Kisan Diwas, जानते है किसानों जुड़ी इस 5 सरकारी योजना के बारे में

National Farmers Day, Kisan Diwas: कृषि प्रधान देश में क्यों मनाया जाता है Kisan Diwas, जाने इसका महत्व

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here