Bihar में गेहूं की बुआई में रुकावट 8000 कृषि कर्मचारी हड़ताल पर, Madhubani में SDO ने पदाधिकारी से की थी मारपीट

113
bihar-agricultural

पटना:बिहार जिला कृषि पदाधिकारी मधुबनी (Agriculture Officer Madhubani) के साथ दुर्व्यवहार मामले में अनुमंडल पदाधिकारी मधुबनी (Sub Divisional Officer Madhubani) सदर का निलंबन नहीं होने से नाराज पूरे राज्य के 8 हजार कृषिकर्मी मंगलवार (Tuesday) से हड़ताल (strike) पर हैं । बिहार कृषि सेवा संघ (Bihar Agricultural Service Association) के नेतृत्व में पटना कृषि कार्यालय (Patna Agriculture Office) से लेकर सूबे के कृषि कर्मी हड़ताल (farm workers strike) पर रहे। इससे कृषि कार्यालयों (agricultural offices) में कामकाज पूरी तरह ठप हैं।

बिहार कृषि कर्मियों (Bihar agriculture personnel) का कहना है कि जबतक निलंबन की कार्रवाई नहीं होगी, हम सब हड़ताल (strike) समाप्त नहीं करेंगे। संघ के महासचिव (General Secretary of the Union) वेद नारायण सिंह (Ved Narayan Singh), सदस्य राजेश कुमार (Rajesh Kumar) समेत अन्य कृषि कर्मियों (agricultural workers) का आरोप है कि बीते 30 नवंबर (30 November) को जिला कृषि पदाधिकारी मधुबनी अशोक कुमार (Agriculture Officer Madhubani Ashok Kumar), उप परियोजना निदेशक आत्मा मधुबनी राकेश राहुल (Rakesh Rahul) एवं अन्यकर्मियों के साथ अनुमंडल पदाधिकारी मधुबनी सदर अश्विनी कुमार (Sub Divisional Officer Madhubani Sadar Ashwini Kumar) ने मारपीट एवं अभद्र व्यवहार किया। इधर, किसान सलाहकार संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजा राम सिंह (Raja Ram Singh, state president of Farmers Consultant Association) ने कहा कि एसडीओ (SDO) के निलंबन के साथ घटना की निष्पक्ष जांच हो।

पूरे बिहार के 8 हजार कृषि कर्मी हड़ताल (8 thousand agricultural workers strike from all over Bihar) पर हैं। इसका सीधा असर रवि फसलों (sun crops) पर पड़ेगा। अभी रवि फसल में गेहूं (Wheat) की बुआई हो रही है। इसके लिए किसानों (farmers) के बीच खाद-बीज (manure-seed) का वितरण कार्य चल रहा, जो प्रभावित होगा। अविलंब हड़ताल समाप्त (strike ended) नहीं हुआ तो इसका असर उत्पादन पर पड़ेगा। बिहार (Bihar) में 24 लाख हेक्टेयर में गेहूं की खेती होती है। गेहूं की बुआई का अंतिम समय 31 दिसम्बर तक है। इसके पहले बुआई नहीं हुई तो गेहूं की पैदावार कम होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here