Lok Sabha Speaker: लोकसभा में साथ-साथ चले पीएम मोदी और राहुल गांधी, जाने कारण

309
Lok Sabha Speaker

Lok Sabha Speaker: एक बार फिर BJP सांसद ओम बिरला 18वीं लोकसभा के अध्यक्ष बने। लोकसभा में बुधवार को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव ध्वनिमत से हुआ। इसके बाद PM मोदी (PM Modi) ने उन्हें बधाई दी। बाद में नेता विपक्ष राहुल गांधी (Leader of Opposition Rahul Gandhi) और PM मोदी लोकसभा अध्यक्ष के आसन तक ओम बिरला (Om Birla) को लेकर गए। यह एक संसदीय परंपरा है। लोकसभा अध्यक्ष को निष्पक्ष माना जाता है। उसे सत्ता पक्ष के साथ-साथ विपक्ष के हितों का भी ध्यान रखना पड़ता है। इसी वजह से नेता सदन और नेता विपक्ष उन्हें आसन तक लेकर जाते हैं और उन्हें बधाई देते हैं।

इस बार लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव में सर्वसम्मति बनाने की कोशिश की, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। विपक्ष ने लोकसभा उपाध्यक्ष का पद मांग लिया। लेकिन सरकार ने इसको लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया। इसके बाद विपक्ष ने अपना उम्मीदवार खड़ा कर दिया। लेकिन आज सदन में मतदान की नौबत नहीं आई, लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव ध्वनिमत से ही हो गया।

Lok Sabha Speaker: लोकसभा में साथ-साथ चले पीएम मोदी और राहुल गांधी, जाने कारण
PM मोदी से हाथ मिलाते नेता विपक्ष राहुल गांधी।

कब कब हुआ लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव (When did the Lok Sabha speaker get elected?)
आजादी के बाद अभी तक भारत में लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए केवल 3 बार 1952, 1967 और 1976 में ही चुनाव हुए हैं। साल 1952 में कांग्रेस सदस्य जी वी मावलंकर को लोकसभा अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। मावलंकर को प्रतिद्वंद्वी शांताराम मोरे के खिलाफ 394 वोट मिले, जबकि मोरे सिर्फ 55 वोट हासिल करने में सफल रहे। साल 1967 में टी विश्वनाथम ने कांग्रेस उम्मीदवार नीलम संजीव रेड्डी के खिलाफ लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव लड़ा.रेड्डी को विश्वनाथम के 207 के मुकाबले 278 वोट मिले और वह अध्यक्ष चुने गए।

इसके बाद 5वीं लोकसभा में 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Prime Minister Indira Gandhi) की ओर से आपातकाल लगाए जाने के बाद 5वें सत्र की अवधि एक साल के लिए बढ़ा दी गई थी। तत्कालीन अध्यक्ष जीएस ढिल्लों ने एक दिसंबर, 1975 को इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस नेता बलिराम भगत को 5 जनवरी, 1976 को लोकसभा अध्यक्ष चुना गया था। इंदिरा गांधी ने भगत को लोकसभा अध्यक्ष के रूप में चुनने के लिए प्रस्ताव पेश किया था, जबकि कांग्रेस (ओ) के प्रसन्नभाई मेहता ने जनसंघ नेता जगन्नाथराव जोशी को चुनने के लिए प्रस्ताव पेश किया था। भगत को जोशी के 58 के मुकाबले 344 वोट मिले।

ये भी पढ़ें-

T20 World Cup 2024: टी20 विश्व कप के लिए सेमीफाइनल कार्यक्रम इस प्रकार है

CTET 2024 Exam City : CTET Exam City ctet.nic.in पर जारी, जुलाई में होगी Exam

Nora Fatehi: नोरा फतेही ने लुक से फैंस के दिलों की धड़कने बढ़ा दी हैं, देखें फोटोज

TS Inter Supply Results 2024: IPASE प्रथम, द्वितीय वर्ष के स्कोर जारी, यहाँ देखें महत्वपूर्ण विवरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here