Land For Job Scam Case: Lalu Yadav, Rabri Devi, Misa Bharti को बड़ी राहत, कोर्ट ने दी जमानत

144
lalu-yadav-rjd

पटना Patna : नौकरी के बदले जमीन (Land For Job Scam Case) मामले में लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) परिवार (Family) को दिल्ली (Delhi) की कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। बुधवार (Wednesday) को दिल्ली कोर्ट (delhi court) ने पूर्व रेलवे मंत्री (former railway minister) और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव (RJD chief Lalu Prasad Yadav), बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Former Chief Minister of Bihar Rabri Devi) और उनकी बेटी-राजद सांसद मीसा भारती (Daughter-RJD MP Misa Bharti) और अन्य आरोपियों को जमानत दे दी है। कोर्ट ने कहा कि सीबीआई (CBI) ने गिरफ्तारी (arrest) के बिना चार्जशीट (charge sheet) दायर की है. राउज एवेन्यू कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई 29 मार्च को होगी.

बड़ी बात यह है कि सीबीआई (CBI) ने तीनों की जमानत का विरोध नहीं किया। दिल्ली (Delhi) की कोर्ट (court) ने सभी को 50 हजार (50 thousand) के निजी मुचलके पर जमानत दी (granted bail) है। मामले में अगली सुनवाई 29 मार्च (29 March) को होगी।

लालू यादव व्हीलचेयर पर अदालत पहुंचे (Lalu Yadav reached the court on a wheelchair)
आप को बता दें कि रेलवे में नौकरी (job in railway) के बदले जमीन घोटाला (land scam) मामले में दिल्ली (Delhi) की राउज एवेन्यू कोर्ट (Rouse Avenue Court) में आज सुनवाई हुई। कोर्ट में पेशी के लिए राजद सुप्रीमो लालू यादव (RJD supremo Lalu Yadav) व्हीलचेयर (wheelchair) पर अदालत पहुंचे। साथ में पत्नी राबड़ी देवी (Wife Rabri Devi) और बड़ी बेटी मीसा भारती (Elder daughter Misa Bharti) भी पहुंची थीं।

आप को बता दे की की साल 2004 से 2009 के दौरान रेल मंत्री रहते हुए लालू यादव (Lalu Yadav as Railway Minister) और उनके परिवार के सदस्यों पर रेलवे में नौकरी के बदले लोगों से जमीन लेने का आरोप है। सीबीआई ने इस मामले में पिछले दिनों चार्जशीट दाखिल की थी।

रेल मंत्री रहते लालू परिवार पर घोटाले का आरोप Lalu family accused of scam while railway minister
सीबीआई (CBI) ने चार्जशीट में आरोप लगाया है कि रेलवे की ग्रुप-डी (Railway Group-D) में भर्ती के लिए भारतीय रेलवे के निर्धारित मानदंडों और प्रक्रियाओं का उल्लंघन करते हुए रेलवे में अनियमित नियुक्तियां की गईं। साथ ही लालू परिवार को नौकरी देने के बदले जमीन उपहार में दी गई या कम कीमत पर बेच दी गई।

इस मामले में 27 फरवरी को सभी 16 आरोपितों दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने समन जारी कर 15 मार्च को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया था। लालू यादव, राबड़ी देवी और मीसा भारती इस मामले में नामजद आरोपित हैं।

ईडी (ED) ने 600 करोड़ के घोटाले का दावा किया
इस मामले में सीबीआई (CBI) ने पिछले दिनों पटना में राबड़ी आवास (Rabri Awas) पर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Former Chief Minister Rabri Devi) से पूछताछ की थी। इसके बाद दिल्ली (Delhi) में मीसा भारती (Misa Bharti) के घर पर लालू यादव (Lalu Yadav) से भी जांच एजेंसी ने पूछताछ की थी। जमीन के बदले नौकरी (JOB) घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 600 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग के सबूत मिलने का दावा किया है। पटना (Patna), दिल्ली (Delhi), मुंबई (Mumbai), रांची (Ranchi) समेत कई राज्यों में ईडी (ED) ने लालू यादव (Lalu Yadav) के परिवार (Family) के सदस्यों और रिश्तेदारों के कुल 24 ठिकानों पर छापेमारी (raids on 24 places) की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here