Galgotia में उद्यमिता के गुरुओं का जमावड़ा, startup के लिये सफलता की कुंजी पर अनुभव साझा किया

123
Galgotia

सीनियर संवाददाता विपुल कुमार
गलगोटिया विश्वविद्यालय (Galgotias University) के उद्यमिता प्रकोष्ठ (Entrepreneurship Cell) ने 11 और 12 फरवरी, 2023 को उत्तर भारत (North India) का सबसे बड़ा उद्यमी शिखर सम्मेलन लॉन्चपैड (Entrepreneur Summit Launchpad) का आयोजन किया। इस अवसर पर तमाम उद्योग (Industry) से जुडे जानी मानी हस्तियों का जमावडा गलगोटिया कैम्पस (Galgotia Campus) में हुआ। भारतपे के संस्थापक अशनीर ग्रोवर, जय डोगो ग्राफिक्स के संस्थापक शार्क टैंक और दादासाहेब भगत, कोड तंत्रा के संस्थापक और सीईओ रमना तेलीदेवरा ने छात्रों के साथ अपने अनुभव साझा किया। इसके साथ एक आइडियाथॉन का भी सफल आयोजन किया गया जहां देशभर से आये प्रतिभागियों ने अपने बिजनेस मॉडल के साथ-साथ अपने आइडिया और बिजनेस प्लान को पेश किया।

11 फरवरी को आयोजन की शुरुआत में वक्ताओं श्री दादासाहेब भगत (Shri Dadasaheb Bhagat) और श्री रमना तेलीदेवरा को कुलाधिपति श्री सुनील गलगोटिया (Chancellor Mr. Sunil Galgotia to Mr. Ramana Telidevra), और कुलपति डॉ. मल्लिकार्जुन बाबू (Vice Chancellor Dr. Mallikarjuna Babu) द्वारा सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम की शुरूवात में दादासाहेब भगत (Dadasaheb Bhagat) ने डूगो ग्राफिक्स की स्थापना की अपनी प्रेरक यात्रा और सभी उतार-चढ़ावों को साझा किया। अपने उद्देश्य के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि वह उन लोगों के लिए एक मंच बनाना चाहते हैं जो शिक्षा का खर्च नहीं उठा सकते हैं, लेकिन उन्हें अपने डिजाइनों को ऑनलाइन बेचने और उन्हें अपनी कंपनी में निवेश और एक साथ काम करने के लिए एक मंच देकर जीवन में कुछ करना चाहते हैं। उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि वह स्वदेशी डिजाइन सॉफ्टवेयर बनाना चाहते हैं ताकि भारत को विदेशी डिजाइन सॉफ्टवेयर खरीदने के लिए लगभग 1800 करोड़ खर्च करने की आवश्यकता न पड़े। उनके प्रेरक भाषण के बाद श्री दादासाहेब भगत और श्री रमना तेलीदेवरा दोनों को प्रशंसा के प्रतीक के रूप में स्मृति चिह्न दिया गया।

इसके उपरांत श्री रमन तेलीदेवरा ने एक अपनी कंपनी कोड तंत्रा की नींव और यात्रा और उनके भविष्य के उद्देश्य और प्रयास के बारे में जानकारी दी जिसने छात्रों को प्रेरित किया। इसके साथ, श्री आयुष प्रताप सिंह, संस्थापक, कूल-ओ-कूल, जो गलगोटिया विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र भी थे, ने दर्शकों को कुछ किस्से सुनाए कि कैसे उन्होंने अपनी कंपनी की स्थापना की।

दूसरे दिन के वार्ता सत्र की शुरुआत श्री कृष्ण मूर्ति, सीईओ, आईआईटीएफ, आईआईटी भिलाई ने की। उनके संक्षिप्त और जानकारीपूर्ण भाषण ने उद्यमशीलता और व्यवसाय को कैसे विकसित किया जाए, के बारे में स्पष्ट विचार दिया। अगले मुख्य अतिथि और शार्क टैंक फेम श्री अशनीर ग्रोवर ने छात्रों के साथ अपने इंटरैक्टिव भाषण के साथ शुरुआत की। अपने भाषण में उन्होंने डिजिटल स्पेस, यह कैसे काम करता है और इससे मिलने वाले अवसर के बारे में बात की। उन्होंने सभी छात्रों को जोखिम उठाने और अपना खुद का कुछ शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया। गलगोटिया विश्वविद्यालय के सीईओ धु्रव गलगोटिया द्वारा अशनीर गोवर व श्रीमती माधुरी जैन ग्रोवर को सम्मानित किया गया। उन्होंने ई-सेल पत्रिका का भी शुभारंभ किया।

बाद में आइडियाथॉन की शीर्ष 20 चयनित टीमों के नाम की घोषणा की गई और इन 20 टीमों ने अपनी आगे की व्यावसायिक योजना और मॉडल को निवेशक पैनल के सामने रखा, जिसमें विजय सिंह राठौर, संस्थापक, सूनिकॉर्न वेंचर्सय ऋषिराज कलिता, संस्थापक, हडलय फ्लूइड वेंचर्स के संस्थापक अमित सिंघल आदि मौजूद थे। इसके बाद गलगोटिया विश्वविद्यालय के श्री राज सिंह भाटी ने अपने वक्तव्य में युवा छात्रों के आत्मविश्वास को और अधिक प्रेरित किया। अंत में गलगोटिया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. के. मल्लिकार्जुन बाबू द्वारा निष्कर्ष और धन्यवाद ज्ञापन दिया। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति प्रो. अवधेश कुमार, छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here