Kabirdas Jayanti 2024: कबीर दास के दोहे आपके जीवन को दिखा सकती है नई राह, यहां पढ़ें उनके प्रसिद्ध दोहे

998
Kabirdas-Ke-Dohe

Kabirdas Jayanti 2024: कबीर दास की हर दोहे जिंदगी बदलने की ताकत रखती है। इस दोहे को अपने जीवन में उतारना चाहिए। ‘गुरु गोविंद दोऊं खड़े, काके लागूं पांय…’ आज भी इस दोहे का स्मरण हर बच्चे को स्कूल, कॉलेज या समाज में करवाया जाता है। कबीर दास के दोहे लोगों के जीवन को एक नई रास्ते दिखाते हैं। आज यानी 22 जून 2024 को संत कबीर दास की जयंती मनाई जा रही है। संत कबीरदास भक्तिकाल के प्रमुख कवियों में गिने जाते हैं। वह संत के साथ-साथ समाज सुधारक भी थे, उन्होंने अपना पूरा जीवन समाज सुधार के कार्यों में लगा दिया।

कबीर दास ने लोगों को एकता के सूत्र का पाठ पढ़ाया। कबीर दास भगवान राम के बहुत बड़े भक्त थे। उनका मत था कि जिस परमात्मा की तलाश में हम दर-दर भटकते रहते हैं वह तो हमारे अंदर है, बस हम अज्ञानवश उसे देख नहीं पाते।

कबीर दास के प्रेरणादायक दोहे

  1. बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय। जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय॥
    अर्थ- कबीर कहते हैं कि जब मैं इस दुनिया में बुराई खोजने गया, तो मुझे कुछ भी बुरा नहीं मिला और जब मैंने खुद के अंदर झांका तो मुझसे खुद से ज्यादा बुरा कोई इंसान नहीं मिला।
  2. धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय। माली सींचे सौ घड़ा, ऋतु आए फल होय॥
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं कि धैर्य रखें धीरे-धीरे सब काम पूरे हो जाते हैं, क्योंकि अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु आने पर ही लगेगा।
  3. चिंता ऐसी डाकिनी, काट कलेजा खाए। वैद बिचारा क्या करे, कहां तक दवा लगाए।।
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं कि चिंता एक ऐसी डायन है जो व्यक्ति का कलेजा काट कर खा जाती है। इसका इलाज वैद्य नहीं कर सकता। वह कितनी दवा लगाएगा। अर्थात चिंता जैसी खतरनाक बीमारी का कोई इलाज नहीं है।
  4. साईं इतना दीजिए, जा मे कुटुम समाय। मैं भी भूखा न रहूं, साधु ना भूखा जाय।।
    अर्थ- कबीर दस जी कहते हैं कि परमात्मा तुम मुझे इतना दो कि जिसमें मेरा गुजरा चल जाए, मैं खुद भी अपना पेट पाल सकूं और आने वाले मेहमानों को भी भोजन करा सकूं।
  5. गुरु गोविंद दोउ खड़े, काके लागूं पांय। बलिहारी गुरु आपनो, गोविन्द दियो बताय।।
    अर्थ – कबीर दास जी कहते हैं कि शिक्षक और भगवान अगर साथ में खड़े हैं तो सबसे पहलो गुरु के चरण छूने चाहिए, क्योंकि ईश्वर तक पहुंचने का रास्ता भी गुरु ही दिखाते हैं।
  6. ऐसी वाणी बोलिए मन का आप खोए, औरन को शीतल करे, आपहुं शीतल होए।।
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं व्यक्ति को हमेशा ऐसी बोली बोलनी चाहिए जो सामने वाले को अच्छा लगे और खुद को भी आनंद की अनुभूति हो।
  7. बड़ा हुआ तो क्या हुआ, जैसे पेड़ खजूर। पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर।।
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं जिस प्रकार खजूर का पेड़ इतना ऊंचा होने के बावजूद आते-जाते राही को छाया नहीं दे सकता है और उसके फल तो इतने ऊपर लगते हैं कि आसानी से तोड़े भी नहीं जा सकते हैं। उसी प्रकार आप कितने भी बड़े आदमी क्यों न बन जाए लेकिन आपके अंदर विनम्रता नहीं है और किसी की मदद नहीं करते हैं तो आपका बड़ा होने का कोई अर्थ नहीं है।
  8. साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय। सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय ।।
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं साधु का स्वभाव सूप की तरह होना चाहिए, सूप की खासियत है वह अनाज या दाने में से तिनका और भूसा अलग कर देता है अर्थात सही चीज को पकड़े रखता है और बेकार की चीजों को हटा देता है इसी तरह साधुओं का भी स्वभाव ऐसा ही होना चाहिए अच्छी बातों को धारण करके बुरी बातों को, बेकार की बातों को अनदेखा करना चाहिए।
  9. मन को मिरतक देखि के, मति माने विश्वास | साधु तहाँ लौं भय करे, जौ लौं पिंजर साँस ||
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं मन को मृतक (शांत) देखकर यह विश्वास न करो कि वह अब धोखा नहीं देगा। असावधान होने पर वह फिर से चंचल हो सकता है इसलिए विवेकी संत मन में तब तक भय रखते हैं, जब तक शरीर में सांस चलती है।
  10. माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रौंदे मोय। एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय॥
    अर्थ- कबीर दास जी कहते हैं इसका यह भावार्थ है कि कुमार जो बर्तन बनाता है तब मिट्टी को रोद करता है उस समय मिट्टी कुमार से बोलती है कि अभी आप मुझे रौंद रहे हैं, 1 दिन ऐसा आएगा जब आप इसी मिट्टी में विलीन हो जाओगे और मैं आपको रौदूंगी।
  • कबीर दास के प्रेरणादायक दोहे
    माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रौंदे मोय।
    एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय॥

माला फेरत जुग गया, गया न मन का फेर ।
कर का मन का डा‍रि दे, मन का मनका फेर॥

तिनका कबहुं ना निंदए, जो पांव तले होए।
कबहुं उड़ अंखियन पड़े, पीर घनेरी होए॥

गुरु गोविंद दोऊं खड़े, काके लागूं पांय।
बलिहारी गुरु आपकी, गोविंद दियो बताय॥

साईं इतना दीजिए, जा मे कुटुम समाय।
मैं भी भूखा न रहूं, साधु ना भूखा जाय॥

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय।
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय॥

कबीरा ते नर अंध है, गुरु को कहते और।
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर॥

माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर।
आशा तृष्णा ना मरी, कह गए दास कबीर॥

रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय।
हीरा जनम अमोल है, कोड़ी बदली जाय॥

दुःख में सुमिरन सब करें सुख में करै न कोय।
जो सुख में सुमिरन करे तो दुःख काहे होय॥

बडा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंथी को छाया नहीं फल लागे अति दूर॥

उठा बगुला प्रेम का तिनका चढ़ा अकास।
तिनका तिनके से मिला तिन का तिन के पास॥

सात समंदर की मसि करौं लेखनि सब बनाई।
धरती सब कागद करौं हरि गुण लिखा न जाई॥

यह भी पढ़ें :

NEET Paper Leak पर तेजस्वी यादव ने विजय सिन्हा को दिया करारा जवाब, कहा-मेरे PS ने गलती किया है तो गिरफ्तार करो

International Yoga Day 2024: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर PM Modi ने किया योग, करो योग रहो निरोग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here